Lord-Shiva-incarnation-life-death-CelebrateLife

नाट्यमंचन

Posted Leave a commentPosted in Fiction

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥ लेखनी की पारम्परिक धारा टूट चुकी है। जिस प्रगाढ़ प्रारभ्ध भूमि पर उसका जन्म हुआ वो मरणासन्न है और धूं-धूं […]